जैन दर्शन में अहिंसा का सिद्धांत

जैन शास्त्रों में अहिंसा जैन धर्म के मूलमंत्र में ही अहिंसा परमो धर्म: – अहिंसा परम (सबसे बड़ा) धर्म कहा गया है। आधुनिक काल में महात्मा गांधी ने भारत की आजादी के लिये जो आन्दोलन चलाया वह काफी सीमा तक अहिंसात्मक था। जैन धर्म में सब जीवों के प्रति संयमपूर्ण व्यवहार अहिंसा है। अहिंसा काContinue reading “जैन दर्शन में अहिंसा का सिद्धांत”

भारतीय दर्शन में चेतना का सिद्धान्त ( Indian Theories of Consciousness)

INDIAN THEORIES OF CONSCIOUSNESS CBCS, Delhi University, B. A. (HONS.) (DISCIPLINE SPECIFIC COURSE) 6th Semester यूनिट के प्रत्येक टॉपिक को हिन्दी में पढ्ने के लिये, टॉपिक के बाद दिये लिंक पर क्लिक करें। UNIT-I  1. Kaṭhopaniṣad: Chapter. 1 Valli I, II & III; Kaṭhopaniṣad in “Ekadasepansodan”. Ed. by V. S. Sastri, Motilal Banarsidas, Delhi, 1966. कथाContinue reading “भारतीय दर्शन में चेतना का सिद्धान्त ( Indian Theories of Consciousness)”

दर्शन शास्त्र पर हिन्दी में व्याख्यान

कई बार कोशिशें नहीं होती और कई बार की गयी कोशिश और उसके परिणामों का लाभ सभी तक नहीं पहुंच पाता।आवश्यकता है कि हर कोशिश के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोग जानें। CEC (Consortium  for Educational Communication) व्यास टीवी पर अलग-अलग विषयों पर हिन्दी और अंग्रेजी दोनों माध्यम में विशेषज्ञों के वीडियो व्याख्यान उपलब्ध करानाContinue reading “दर्शन शास्त्र पर हिन्दी में व्याख्यान”

Create your website with WordPress.com
Get started