प्रभा खेतान की “स्त्री उपेक्षिता” , द सेकेंड सेक्स किताब का हिंदी रूपांतरण

” स्त्री पैदा नहीं होती वरन बना दी जाती है”बी.ए. (Hons.) प्रथम वर्ष, GE- Ethics in Public Domain कोर्स में एक टॉपिक लेखिका सिमोन द बउआर( Simone De Beauvoir)   द्वारा  लिखित “द सेकेंड सेक्स”  वॉल्यूम 2 का 5वाँ पाठ ” The Married Woman” है। प्रभा खेतान की “स्त्री उपेक्षिता” ,  द सेकेंड सेक्स किताब का हिंदी रूपांतरण है। छात्रContinue reading “प्रभा खेतान की “स्त्री उपेक्षिता” , द सेकेंड सेक्स किताब का हिंदी रूपांतरण”

राजा जनक और सुलभा संवाद

नारीवादी लेखिका रूथ वनिता ने अपने आलेख ‘आत्मा का कोई लिंग नहीं होता'(the self is not gendered) में अपनी बात हिन्दू मान्यता में प्रचलित पुराणिक कथाओं और भारतीय दर्शन के वेदांत स्कूल की विचारधारा के माध्यम से कही है।राजा जनक और सुलभा संवाद कहानी का आलेख में उसी संदर्भ में उपयोग है। रूथ वनिता काContinue reading “राजा जनक और सुलभा संवाद”

Create your website with WordPress.com
Get started