जैन व्रत

दि. वि., बी.ए. (प्रोग्राम ), 3rd YEAR – “जैनिज़्म ” लेख: जैन व्रत

इस लेख में जैन दर्शन में निर्देशित पांच महाव्रतों की चर्चा की गयी है/ जैन दर्शन में साधु- साध्वियों के लिए महाव्रतों का और श्रावक – श्राविकाओं के लिए अणुव्रत का वर्णन मिलता है/ यह छूट गृहस्थ आश्रम की जिम्मेदारियों और सीमाओं (Limitations) को ध्यान में रखते हुए दी गई है/ इन पाँच अणुव्रतों के साथ गृहस्थ के लिए अन्य सात व्रतों को जोड़ा गया है/

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: